Breaking News

जिमखाना क्लब में भारतीय परिधान पर प्रतिबंध हटा, प्रशान्त भाटिया ने जिमखाना क्लब के सचिव से की मुलाकात, जताया आभार

*जिमखाना क्लब में भारतीय परिधान पर प्रतिबंध हटा, प्रशान्त भाटिया ने जिमखाना क्लब के सचिव से की मुलाकात, जताया आभार*

गोल्फ क्लब में प्रवेश हेतु भारतीय परिधानों पर लगे प्रतिबंध के साथ ही यह भी बताया गया था कि लखनऊ के अन्य दो क्लब *”जिमखाना क्लब एवं एम०बी० क्लब”* में भी भारतीय परिधानों में प्रवेश प्रतिबंधित है। इसी कड़ी में आईआईए के पूर्व चेयरमैन प्रशान्त भाटिया ने जिमखाना क्लब पहुंचकर क्लब के सचिव अशोक कुमार अग्रवाल से भेंट कर ज्ञापन सौंपा। प्रशान्त भाटिया भारतीय परिधान कुर्ता पायजामा में ही जिमखाना क्लब में पहुँचे थे।

प्रशान्त भाटिया ने सचिव अशोक कुमार अग्रवाल को गोल्फ क्लब में हुए प्रकरण से अवगत कराते हुए बताया कि भारत की भूमि पर गोल्फ क्लब सहित अन्य क्लबों में भारतीय परिधान पहनकर प्रवेश आज भी प्रतिबंधित है, जोकि भारतीय संस्कृति और भारतीयता का अपमान है। ऐसा प्रतीत हो रहा है कि अभी भी हम दासता (गुलामी) काल में रह रहे है, जहाँ भारतीयों और भारतीय परिधानों को हीन भावना से देखने की अंग्रेजियत मानसिकता वाली प्रवृति आज भी जारी है।
प्रशान्त भाटिया ने कहा कि आज जब पूरे विश्व में भारतीयता और भारतीय संस्कृति को सभी आत्मसात् कर रहे हैं और सम्मान दे रहे हैं, ऐसे में भारत में ही भारतीय परिधान को हीन भावना से देखने की प्रवृति दुर्भाग्यपूर्ण है। भारतीय परिधानों पर प्रतिबंध हमारी संस्कृति पर आघात है। आजादी को 75 वर्ष हो गए हैं, हमें गुलामी की मानसिकता से बाहर निकलने के लिए और कितना वक्त चाहिए?

जिमखाना क्लब के सचिव श्री अशोक अग्रवाल ने प्रशान्त भाटिया को बताया की वर्तमान में हमारे क्लब में किसी भी तरह से भारतीय परिधान प्रतिबंधित नहीं है। लखनऊ अपनी मेहमाननवाजी के लिए जाना जाता है और जिमखाना क्लब अपने सदस्यों एवं उनके मेहमानों का पूरा सम्मान करता है और उनके पहने हुए वस्त्रों को लेकर किसी भी प्रकार से भेदभाव नहीं करता है, न ही बेइज्जत कर उन्हें वापस भेजने का अशिष्ट कार्य करता है।
सचिव ने प्रशान्त भाटिया को बताया कि हमने अपने सदस्यों को बोल रखा है कि क्लब आपका दूसरा घर है, इसनाते बस क्लब की डिसेंट ड्रेसिंग और डिग्निटी को बनाये रखें अर्थात यहाँ आप आये और अपने मेहमानों को ससम्मान ऐसे परिधान में लेकर आये जैसे आप उनको अपने घर के अंदर ले जा सकते हो, अपने ड्राइंग रूम में बैठा सकते हो।
जिमखाना क्लब के सचिव ने बताया कि पहले यहाँ कुर्ता पायजामा प्रतिबंधित था, जो कि उचित नहीं था, अंग्रेजो के समय के बनाएं गए नियम ही प्रचलन में चले आ रहा थे, जिसको अब बदल दिया गया है।

इस मौके पर आईआईए के पूर्व चेयरमैन प्रशान्त भाटिया ने जिमखाना क्लब के सचिव अशोक कुमार अग्रवाल सहित क्लब के कार्यकारिणी सदस्यों का आभार जताते हुए कहा कि मैं आशा करता हूं की इस सुंदर पहल से प्रेरणा लेकर इसका अनुसरण लखनऊ सहित देश के अन्य क्लब भी करेंगे और इस विषमता को समाप्त कर भारतीय संस्कृति के सम्मान को स्थापित करने का कार्य करेंगे।

इस दौरान प्रशान्त भाटिया संग जिमखाना क्लब के सदस्य आनन्द शेखर भी उपस्थित रहें।

About ATN-Editor

Check Also

“पर्वतमाला परियोजना” के तहत आने वाले पांच वर्षों में 1.25 लाख करोड़ रुपये की लागत से 200 से अधिक परियोजनाएं- मंत्री नितिन गडकरी

  हमारी सबसे बड़ी प्राथमिकता समग्र परियोजना लागत को कम करके रोपवे को आर्थिक रूप …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *