Breaking News

भाजपा और जनसंघ का रहा है बडा मार्मिक और गौरवशाली इतिहास कलराज मिश्र इतिहास पुरुष के रुप में हमेशा याद किये जायेगा- ड0 दिनेश शर्मा

 

लखनऊ । भाजपा और जनसंघ का बडा मार्मिक व गौरवशाली इतिहास रहा है। पार्टी को आगे लाने में ऐसे नेतृत्व की बडी भूमिका रही है जिसने कार्यकर्ता को एक सूत्र में पिरोकर पार्टी को ताकत दी है। राज्यपाल कलराज मिश्रा जी उनमे से एक हैं तथा वे ऐसे राजनेता है जिनके लिए कार्यकर्ता ही सब कुछ है और वे उससे मिलने के लिए उसके घर तक चले जाते हैं। झण्डे और डंडे का जो सम्बन्ध कार्यकर्ता और नेता के बीच होता है वही सम्बंध उनका कार्यकर्ता से रहा है । यें बाते दीनदयाल सेवा प्रतिष्ठान द्वारा आयोजित राज्यपाल महामहिम कलराज मिश्र के साथ चाय पर चर्चा कार्यक्रम में राज्यसभा संासद व पूर्व उपमुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश डा दिनेश शर्मा ने कही।

उन्होंने कहा कि डंडे अर्थात कार्यकर्ता को मजबूत किया है इसलिए ही पार्टी का परचम लहराया है। उन्होंने पार्टी के लिए उस दौर में कार्य आरंभ किया है जब साधन नहीं थे और सत्ता में आने के बारे में सोचा नहीं जा सकता था। वे ऐसे राजनेता हैं जिनका विपक्षी दल भी सम्मान करते हैं।श्रधेय अटल बिहारी वाजपेई, लाल कृष्ण आडवाणी मुरली मनोहर जोशी, कुशाभाऊ ठाकरे सुंदर सिंह भंडारी कल्याण सिंह माधव बाबू आदि के साथ आदरणीय कल राज मिश्रा जी का नाम भी उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की जड़ों को मजबूत करने में सदैव याद किया जाता है
श्री शर्मा ने कहा कि राज्यपाल कलराज जी की मेरी जीवन की राजनीतिक यात्रा में बडी अहम भूमिका रही है। उनके मार्गदर्शन में ही उन्हें आगे बढने के अवसर मिले। ऐशबाग रामलीला का आज जो स्वरूप है उसके पीछे भी उनकी ही भूमिका है। पीडब्ल्यूडी मंत्री के रूप में अपने पूरे प्रदेश में सड़कों का एक बड़ा जाल फैलाया इसका लाभ आज तक प्राप्त हो रहा है कार्यक्रम में दीनदयाल सेवा प्रतिष्ठान के अध्यक्ष श्री प्रवीण मिश्रा, पूर्व महापौर श्रीमती संयुक्ता भाटिया सिंधी अकादमी के अध्यक्ष नानक चंद लखवानी ,श्री सुधाकर त्रिपाठी, मुन्ना मिश्रा पार्षद चंद्र प्रकाश अग्निहोत्री बी एन मिश्रा सहित तमाम गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

 

 

 

About ATN-Editor

Check Also

राजनीतिक दलों और उनके प्रतिनिधियों को सोशल मीडिया मंचों के जिम्मेदारी के साथ और नैतिक उपयोग के निर्देश

गलत सूचना और कृत्रिम सामग्री से निपटने के लिए मौजूदा कानूनी ढांचे को विशेष रूप …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *