Breaking News

अमृत काल व्याख्यान श्रृंखला के क्रम में विकसित भारत 2047

अर्थशास्त्र विभाग, डॉ0 शकुंतला मिश्रा राष्ट्रीय पुनर्वास विश्वविद्यालय, लखनऊ द्वारा अमृत काल व्याख्यान श्रृंखला के क्रम में विकसित भारत- 2047 के अंतर्गत डॉ0 अनामिका चौधरी, विभागाध्यक्ष, अर्थशास्त्र विभाग के संयोजन में एवं प्रो0 वी के सिंह, अधिष्ठाता, कला एवं संगीत संकाय की अध्यक्षता में सूक्ष्म वित्त रोजगार में सहायक सूक्ष्म वित्त
विषय पर विशिष्ट व्याख्यान का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में मुख्य वक्ता के रूप में बी फायेंस प्रा0 लिमिटेड के एमडी एण्ड सीईओ करुणेश निगम द्वारा व्याख्यान प्रस्तुत किया गया।

व्याख्यान में करुणेश निगम ने कहा कि संबंधित वैश्विक एवं राष्ट्रीय स्तर पर आंकड़ों के आधार पर डिजिटल व्यवस्था एवं माइक्रोफाइनेंस के सहयोग से रोजगार सृजन हेतु विभिन्न आयामों पर विस्तृत वर्णन प्रस्तुत किया गया।
करुणेश निगम द्वारा विकसित भारत लक्ष्य हेतु विभिन्न आयामों पर विस्तृत वर्णन प्रस्तुत किया गया साथ ही विश्वविद्यालय में प्लेसमेंट सेल के माध्यम से रोजगार उपलब्ध कराने हेतु करुणेश निगम की टीम के सदस्य भी कार्यक्रम में शामिल हुए।

करुणेश निगम द्वारा अपने वक्तव्य में विकसित भारत लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए माइक्रोफाइनेंस के माध्यम से रोजगार वृद्धि एवम् गरीबी उन्मूलन हेतु विभिन्न सुझाव भी बताए गए।

कार्यक्रम में प्रो0 राणा कृष्णा पाल सिंह कुलपति महोदय ने विभाग एवं विद्यार्थियों को आशीर्वाद प्रदान करते हुए अपने उद्बोधन में विकसित भारत 2047 लक्ष्य हेतु ग्रामीण समुदाय के लोगों को मुख्य धारा में लाने के लिए विभिन्न आयामों पर विस्तृत चर्चा की । कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में यूपी एम एफ एसोसिएशन के मुख्य कार्यपाल अधिकारी सुधीर सिन्हा प्रो0 वी0 के0 सिंह, अधिष्ठाता, कला एवं संगीत संकाय, डॉ0 अनामिका चौधरी, विभागाध्यक्ष, अर्थशास्त्र विभाग, डॉ0 अभिषेक पांडेय, डॉ0 अंजलि सिंह, डॉ0 नरेंद्र कुमार उपस्थित रहे।
कार्यक्रम में विभिन्न विभागों के छात्र-छात्राओं ने बड़ी संख्या में प्रतिभाग किया।
कार्यक्रम के अंतर्गत कुलपति एवं सुधीर सिन्हा, प्रो0 वी0 के0 सिंह, डॉ0 अनामिका चौधरी एवं अन्य विद्वत जनो द्वारा पूर्व आयोजित समारोह हेतु विद्यार्थियों को प्रमाण पत्र एवं पुरस्कार भी प्रदान किए गए।

 

 

About ATN-Editor

Check Also

भारतीय नववर्ष मेला एवं चैती महोत्सव 9 अप्रैल से 

      लखनऊ , 7 अप्रैल 2024। तुलसी शोध संस्थान उत्तर प्रदेश के अंतर्गत …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *