Breaking News

101 कन्याओं का कन्यादान कर बेटियों का घर बसाने संकल्प पूरा किया- कल्पा कांतिलाल प्रेमजी मारू

क्लासिक सामूहिक विवाह समारोह में प्रधानमंत्री के छोटे भाई पंकज मोदी भी पहुंचे


लखनऊ, । श्री रघुवर कोमल कमलनयन को पहनाओ जयमाला… गाओ री सब मंगल गाओ री दूल्हा राम जानकी दुल्हन वारि-वारि जाऊँ री गीत-संगीत की मधुर स्वर लहरियों के बीच जब 101 कन्याओं ने वरों के गलों में जयमाला डाली तो गुलाब की पंखुड़ियों की पुष्प वर्षा से सम्पूर्ण परिवेश राम -जानकी मय हो गया, मानों आकाश से भी देवी – देवताओं ने भी अपना आशीर्वाद दिया हो, यह खूबसूरत मौका था श्री राम लीला मैदान ऐशबाग में क्लासिक परिवार के तत्वावधान में आयोजित क्लासिक सामूहिक विवाह समारोह का।


वैसे तो हर मां बाप का सपना होता है कि वह अपने बेटे-बेटी की शादी धूमधाम से करे, कई बार आर्थिक विपन्नता के चलते और बिना मां-बाप के कारण ऐसा नहीं हो पाता है, कुछ ऐसी ही परिस्थितियों में निर्धन और निराश्रित बेटियों का सहारा बने क्लासिक परिवार के मुखिया कल्पा कांतिलाल प्रेमजी मारू, जिन्होंने अपने निजी प्रयासों से 101 निर्धन और निराश्रित बेटियों का सामूहिक विवाह समारोह कराया।


सामूहिक विवाह समारोह के पूर्व आज नाका हिंडोला मार्ग से रथों पर सवार 101 दूल्हों की बारात निकली, जो धूमधाम के साथ राम लीला मैदान ऐशबाग पहुंची, जहां द्वारचार, जयमाल के उपरान्त गोधूलि बेला में 101 जोड़ो का सामूहिक विवाह संपन्न हुआ।

क्लासिक सामूहिक विवाह के संयोजक कल्पा और कांतिलाल प्रेमजी मारू ने बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के संकल्प के साथ बेटी बसाओ का भी संकल् पूरा करके अवध प्रान्त की 101 निर्धन-निराश्रित बेटियों का कन्यादान कर, उन्हें सुहाग की सभी चीजों के साथ घर गृहस्थी की सभी सामान यथा बर्तन, अलमारी, डबल बेड, रजाई गद्दा, कपड़े के साथ घरेलू उपयोग की अन्य चीजें भी भेंट की।


क्लासिक सामूहिक विवाह समारोह में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के छोटे भाई पंकज मोदी, डॉ नीरज बोरा विधायक लखनऊ उत्तर क्षेत्र, कान्तिलाल प्रेमजी मारू, कल्पा कांतिलाल मारू, हरीश चन्द्र अग्रवाल, पंडित आदित्य द्विवेदी ने सभी 101 विवाहित जोड़ों को आशीर्वाद प्रदान किया। इस अवसर पर राजेश गुप्ता, नितेश अग्रवाल , गोपाल कुमार , राजेश कुमार , हर्षित, सुशांक अरोड़ा, विनोद सिंघल, अचल गुप्ता, छवि गर्ग सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

About ATN-Editor

Check Also

भारतीय नववर्ष मेला एवं चैती महोत्सव 9 अप्रैल से 

      लखनऊ , 7 अप्रैल 2024। तुलसी शोध संस्थान उत्तर प्रदेश के अंतर्गत …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *