Breaking News

एक साल में दृष्टि सामाजिक संस्थान को नये रंग और आधुनिक सुवीधाओं से लैस करेंगे- ओम प्रकाश मिश्र

 

पूजा श्रीवास्तव

एक साल में दृष्टि सामाजिक संस्थान को नये रंग और आधुनिक सुवीधाओं से लैस करेंगे इसके लिए तीन करोड़ उन्तीस लाख रुपये का बजट आवटिंत किया गया है यें बातें दृष्टि सामाजिक संस्थान में एसबीआई फाउंडेशन के सहयोग से कि, जा रहे नवीनीकरण कार्य का शुभारांभ करते हुए भारती स्टेट बैंक के उप प्रबंध निदेशक (मानव संसधान) वं कॉरपोरेट विकास अधिकारी ओम प्रकाश मिश्र ने लखनऊ में कही।

उन्होंने बताया कि एसबीआई फाउंडेशन पूरे देश मंे इस प्रकार के कई प्रोजेक्ट में सहयोग कर रहा है। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया इस सहयोग से दृष्टि के विशेष बच्चों का जीवन बेहतर बनेगा।
दृष्टि सामाजिक संस्थान के धन्यवाद देते हुए कहा कि भारतीय स्टेट बैंक ने पिछले 30 वर्ष से अधिक हर मोड पर दृष्टि की सहायता की है और एसबीआई फाउंडेशन का वर्तमान प्रोजेक्ट में सहयोग दृष्टि की बेहतरी में मिल का पत्थर साबित होगा।
संजय प्रकाश, एमडी ,वं सीईओ, एसबीआई फाउंडेशन ने विस्तार से फाउंडेशन के कार्यो के बारे मंें बताया।

और कहा कि दृष्टि के साथ सहारान करने में आओ इतनी बड़ी तादाद में विशेष बच्चों की सहाता करके उन्हें गर्व महसूस हो रहा है।

समारोह में एसबीआई के अलावा फाउडेशन के प्रेसिडेंट वं सी ओ ओ जगन्नाथ साहू, एसबीआई के महाप्रबंधक, मालवी प्रकाश तथा बैंक के कई वरिष्ठ अधकारी मौजूद थे।
इस अवसर पर दृष्टि विशेष बच्चों ने अपने अपने विशेष ढग से खुशी जाहिर की और मेहमानों का धन्यवाद किया।
उन्होंने आगंतुकों को अपने हाथ से बना, क्राफ्ट आइटम, पेंटिंग्स तथा कार्ड्स इत्यादि भी भेंट कियें।
समारोह की विशेषता इन विशेष बच्चों द्वारा समारोह के लिए दृष्टि परिसर की सजावट रही।
दृष्टि की स्थापना वर्ष 1990 में पूर्व पत्रकार स्व0 नीता बहादुर ने अनाथ दिव्यागं बच्चों के कला तथा समाज में पुनर्स्थापना के लिए किया था। आज दृष्टि मंे इस प्रकार के 260 बच्चों की सेवा की जा रही है तथा विभिन्न ट्रडांे में प्रशिक्षण दिया जा रहा है।

About ATN-Editor

Check Also

जुड़वा बहनों ने आई.एस.सी 2024 परीक्षा परिणाम कक्षा 12 मे राजधानी का नाम रौशन किया 

लखनऊ , 6 अप्रैल 2024। आज आए आई.एस.सी 2024 परीक्षा परिणाम में राजधानी के स्टेला …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *