Breaking News

प्रदेश के विकास का जो ग्राफ अब तेजी से ऊपर की ओर बढ़ रहा है- सुरेश कुमार खन्ना

वन ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था के रूप में प्रदेश की संभावना, चुनौतियां तथा वित्त विभाग एवं भारतीय स्टेट बैंक की भूमिका विषय पर सेमिनार

प्रदेश को वन ट्रिलियन डॉलर की इकोनामी बनाने के लिए प्रदेश के मुख्यमंत्री जी चौमुखी विकास पर तीव्र गति से कर रहे कार्य

अतुल चंद्रा

उत्तर प्रदेश में जब से योगी जी के नेतृत्व में सरकार बनी है, प्रदेश के प्रति लोगों की धारणा बदली है। धारणा हमारे कार्य व्यवहार, आचरण और हमारी उपलब्धियों इन सब से मिलकर बनती है। प्रदेश का जो ग्राफ 2017 तक लगातार नीचे की तरफ जा रहा था वह ग्राफ अब तेजी से ऊपर की ओर बढ़ रहा है। उत्तर प्रदेश हर क्षेत्र में तरक्की की ओर अग्रसर हैं। यें बातें एक ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था के रूप में उत्तर प्रदेश संभावना, चुनौतियां तथा वित्त विभाग एवं भारतीय स्टेट बैंक की भूमिका विषय पर आयोजित सेमिनार में बतौर मुख्य अतिथि उत्तर प्रदेश के वित्त मंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने इंदिरा नगर स्थित वित्तीय प्रबन्ध प्रशिक्षण एवं शोध संस्थान में कही।

उन्होंने कहा कि जो उत्तर प्रदेश कभी बीमारू राज्य के रूप में जाना जाता था आज तेजी से बढ़ते हुए प्रदेश के रूप में जाना जा रहा है। इसमें उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एवं उनकी पूरी टीम का बहुत बड़ा योगदान है, जिन्होंने बिना रुके, बिना थके लगातार इस बात की कोशिश की है कि उत्तर प्रदेश के आम नागरिक को शासन और सत्ता का लाभ मिले, उन्हें योजनाओं का भरपूर लाभ मिल,े उनके अधिकार उन्हें मिले।

उन्होंने कहा कि योगी आदित्यनाथ जी के मुख्यमंत्री बनने के बाद से प्रदेश में ला एंड ऑर्डर की दृष्टि से लोगों में धारणा बदली है। प्रदेश में संगठित अपराध लगभग समाप्त हुआ है जिसे देश और दुनिया के लोग भी आज महसूस कर रहे हैं। प्रदेश ने प्राथमिक, द्वितीयक एवं तृतीय सभी सेक्टर में प्रगति की है। आज लोगों के पास क्रय शक्ति बढ़ी है। क्रयशक्ति बढ़ने से पूरी आर्थिक व्यवस्था का विस्तार होता है।
मुख्यमंत्री जी ने प्रदेश औद्योगिक गतिविधियों को गति प्रदान करने के लिए लॉ एंड ऑर्डर के साथ-साथ औद्योगिक विकास एवं ट्रांसपरेंट पॉलिसी इंडस्ट्रियल पॉलिसी एवं उसके फाइनेंसिंग की व्यवस्था तथा हर तरीके से तेजी से निर्णय लेने की प्रक्रिया को अपनाया। उन्होंने कहा कि प्रदेश का 2017 में जो बजट का साइज लगभग 3.50 लाख करोड़ का था आज यह 6.90 लाख करोड़ पर पहुंच गया है। कृषि क्षेत्र में पैदावार की सुधार के साथ साथ किसानों को उनकी उपज का सही मूल्य समय पर मिल रहा है। सिंचाई की योजनाओं को गति प्रदान करते हुए वर्ष 2017- 22 में सिंचाई परियोजनाओं पर फोकस करके उन योजनाओं को चालू करते हुए लगभग 23 लाख हेक्टेयर सिंचन क्षमता को बढ़ाया गया। वर्ष 2017-18 से 2023-24 में किसानों से 224.6 8 लाख मेट्रिक टन गेहूं की खरीद करते हुए 41299.13 करोड़ रुपए का भुगतान 4789493 किसानों को किया गया। खरीफ की फसल में वर्ष 2017-18 से वर्ष 2022-23 में 345.59 लाख में मिट्रिक टन की खरीद की गई जिसके लिए 5368633 किसानों को 63935.87 करोड़ रुपए भुगतान किया गया।
सेकेंडरी सेक्टर के तहत उत्तर प्रदेश को इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट स्टेट बनने के लिए सरकार कार्य कर रही है। सेफ्टी और सिक्योरिटी की दृष्टि से देश और दुनिया का यह मानना है कि इन्वेस्टमेंट करने के लिए उत्तर प्रदेश सबसे सुरक्षित और और सही स्थान है। अभी तक उत्तर प्रदेश विभिन्न इन्वेस्टर्स के द्वारा 20 से अधिक जनपदों में 3853452 करोड़ के प्रस्ताव मिल चुके हैं। प्रदेश सरकार इन्वेस्टर को हर तरीके से फैसिलिटेट करने के लिए सब्सिडी, ब्याज में छूट के माध्यम से, भूमि क्रय में स्टांप छूट के साथ साथ हर प्रकार से इन्वेस्टर्स पॉलिसी को सरल और लिबरल बनाई गई है जिसके तहत सिंगल विंडो सिस्टम के माध्यम से लोगों को इन्वेस्टमेंट के लिए व्यवस्था की गई है।
श्री खन्ना ने कहा कि प्रदेश का निर्यात वर्तमान में बढा है अभी तक 88000 करोड़ का एक्सपोर्ट होता था आज हम 174000 करोड़ से ज्यादा का निर्यात कर रहे है। सरकार रेहड़ी पटरी दुकानदारों एवं शिल्पकार सभी के लिए योजनाएं संचालित की गई हैं। प्रदेश में कनेक्टिविटी का तेजी से विकास हो रहा है आज तीन इंटरनेशनल एयरपोर्ट संचालित है शीघ्र ही दो और इंटरनेशनल एयरपोर्ट उपलब्ध होंगे। सड़क और रेलवे लाइन का लगातार विस्तार हो रहा है कनेक्टिविटी और कम्युनिकेशन सेक्टर को जितना मजबूत किया जाएगा विकास को उतनी ही गति मिलेगी।
उत्तर प्रदेश में पर्यटन स्थलों का विकास तेजी से हो रहा है। विगत एक साल में 18 करोड़ से ज्यादा लोग इन स्थानों पर तीर्थाटन करने गए इनमे 7 करोड़ से अधिक विदेशी हैं। आज बनारस एक बहुत बड़ा टूरिस्ट डेस्टिनेशन बन गया है। आज अयोध्या भी विश्व के लिए एक आकर्षण का केंद्र है। चित्रकूट एवं कुंभ भी पर्यटकों के लिए आकर्षण के केंद्र हैं।
तकनीकी का प्रयोग करते हुए आज 2 करोड़ 60 लाख से ज्यादा लोगों के किसान सम्मान निधि उनके खाते में एक क्लिक से पहुंच जाती है। वर्तमान में जन धन खातों में 2 लाख करोड़ से अधिक धनराशि जमा है और सभी के पास बैंकिंग तक पहुंच होने से डीबीटी और लाभार्थियों को सीधे लाभ पहुंचाने में मदद मिली है। वित्त सेवा एवं रेखा संघ के लोगों से अपील किया कि आपका सहयोग इस लक्ष्य में यही होना चाहिए कि उसके प्रति आपका पॉजिटिव अप्रोच हो पॉजिटिव अप्रोच के साथ-साथ हेल्पिंग एटीट्यूड लक्ष्य को पाने का उत्साह तथा सकारात्मक अवधारणा हो।
इस अवसर पर सचिव वित्त, निदेशक कोषागार नील रतन, महाप्रबंधक भारतीय स्टेट बैंक अरूण कुमार साहू, विभागाध्यक्ष अर्थशास्त्र विभाग लखनऊ विश्वविद्यालय प्रो0 एम0के0 अग्रवाल सहित वित्त विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।

About ATN-Editor

Check Also

लोकसभा सामान्य निर्वाचन-2024 में 70 प्रतिशत से अधिक मतदान कराये जाने का प्रयास किया जाय-मुख्य निर्वाचन अधिकारी नवदीप रिणवा

नागरिकों को जागरूक करने के लिए स्वीप गतिविधियों को तेजी से संचालित करें सभी विभाग …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *