Breaking News

आज देश का संविधान खतरे में है

आज देश का संविधान खतरे में है, और देश की जनता को संविधान बचाने के लिए आगे आना चाहिए। वर्तमान की केंद्र की भाजपा सरकार भारत के संविधान को बदलना चाहती है। ये सरकार अनुसूचित जाति, जनजाति एवं पिछड़ा वर्ग को मिल रहे आरक्षण को खत्म कर देना चाहती है लेकिन कांग्रेस पार्टी उनके मंसूबों को कामयाब नहीं होने देगी। यें बातें संविधान बचाओ संकल्प सभा में प्रांतीय अध्यक्ष नकुल दुबे के नेतृत्व में प्रेदश अध्यक्ष बृजलाल खाबरी ने उन्नाव जिले में कही।

सभा को संबोधित करते हुए प्रांतीय अध्यक्ष एवं पूर्व कैबिनेट मंत्री नकुल दुबे ने कहा की आज देश का संविधान खतरे में यहां मणिपुर जल रहा है, वहां हमारे प्रधानमंत्री विदेश यात्रा कर रहे थे, ढाई महीने से वहां आग लगी है, महिलाओं, बच्चियों के खिलाफ़ अत्याचार की घटनाएं हो रही हैं, लेकिन न तो मणिपुर की सरकार इस भयावह स्थिति से निपटने में सक्षम है और न ही केंद्र की सरकार। मणिपुर की घटना से आज सभी के मन में क्रोध है, सरेआम महिलाओं से बदसलूकी हो रही है, लोग मारे जा रहे हैं लेकिन सरकार ख़ामोश है, अत्याचार दुराचार का वीडियो वायरल हुआ तब जाकर सरकार जागी, ये हो क्या रहा है। मुख्यमंत्री को तुरंत इस्तीफा देना चाहिए, ढाई महीने से मणिपुर जल रहा है, फिर भी कानून व्यवस्था बेपटरी है और केंद्र सरकार लगातार मुख्यमंत्री को बचा रही है, सरकार देश की बेटियों को इंसाफ नहीं दे पा रही, उनका संरक्षण नहीं कर पा रही, ये देश के लिए बड़े शर्म की बात है। आज की जो स्थिति है, ऐसे में कांग्रेस ही वो दल है जो संविधान को बचाने में सफ़ल होगा।
आयोजन की अध्यक्षता वयोवृद्ध एवं पूर्व विधायक सफीपुर हरिप्रसाद कुरील ने की, वहीं चंदन लाल त्रिपाठी के साथ जिलाध्यक्ष आरती बाजपेई, कमल तिवारी दिनेश शुक्ला अभिषेक यादव कमलेश भारती जी, प्रतिभा पाल जी, राजेश वर्मा जी वैभव शुक्ला जी, शिवम अवस्थी समेत तमाम जिला कार्यकारणी के पदाधिकारी और कार्यकर्ता मौजूद रहे।
वहीं लखनऊ से चलकर आए मोहम्मद जुबैर दुर्गाशंकर वाजपेई राजेंद्र पांडेय अभय वाजपेई जी भी मौजूद रहे।

सभा को संबोधित करते हुए प्रांतीय अध्यक्ष एवं पूर्व कैबिनेट मंत्री नकुल दुबे ने कहा की आज देश का संविधान खतरे में यहां मणिपुर जल रहा है, वहां हमारे प्रधानमंत्री विदेश यात्रा कर रहे थे, ढाई महीने से वहां आग लगी है, महिलाओं, बच्चियों के खिलाफ़ अत्याचार की घटनाएं हो रही हैं, लेकिन न तो मणिपुर की सरकार इस भयावह स्थिति से निपटने में सक्षम है और न ही केंद्र की सरकार। मणिपुर की घटना से आज सभी के मन में क्रोध है, सरेआम महिलाओं से बदसलूकी हो रही है, लोग मारे जा रहे हैं लेकिन सरकार ख़ामोश है, अत्याचार दुराचार का वीडियो वायरल हुआ तब जाकर सरकार जागी, ये हो क्या रहा है। मुख्यमंत्री को तुरंत इस्तीफा देना चाहिए, ढाई महीने से मणिपुर जल रहा है, फिर भी कानून व्यवस्था बेपटरी है और केंद्र सरकार लगातार मुख्यमंत्री को बचा रही है, सरकार देश की बेटियों को इंसाफ नहीं दे पा रही, उनका संरक्षण नहीं कर पा रही, ये देश के लिए बड़े शर्म की बात है। आज की जो स्थिति है, ऐसे में कांग्रेस ही वो दल है जो संविधान को बचाने में सफ़ल होगा।
आयोजन की अध्यक्षता वयोवृद्ध एवं पूर्व विधायक सफीपुर हरिप्रसाद कुरील ने की, वहीं चंदन लाल त्रिपाठी के साथ जिलाध्यक्ष आरती बाजपेई, कमल तिवारी दिनेश शुक्ला अभिषेक यादव कमलेश भारती जी, प्रतिभा पाल जी, राजेश वर्मा जी वैभव शुक्ला जी, शिवम अवस्थी समेत तमाम जिला कार्यकारणी के पदाधिकारी और कार्यकर्ता मौजूद रहे।
वहीं लखनऊ से चलकर आए मोहम्मद जुबैर दुर्गाशंकर वाजपेई राजेंद्र पांडेय अभय वाजपेई जी भी मौजूद रहे।

About ATN-Editor

Check Also

“पर्वतमाला परियोजना” के तहत आने वाले पांच वर्षों में 1.25 लाख करोड़ रुपये की लागत से 200 से अधिक परियोजनाएं- मंत्री नितिन गडकरी

  हमारी सबसे बड़ी प्राथमिकता समग्र परियोजना लागत को कम करके रोपवे को आर्थिक रूप …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *