Breaking News

टैक्स चोरी के खिलाफ वाणिज्य कर का अभियान, वसूले 39.88 लाख

लखनऊ। वाणिज्य कर विभाग द्वारा टैक्स चोरी पर अंकुश लगाये जाने के उद्देश्य से चलाये जा रहे अभियान सफल साबित हो रहा है, इससे न केवल बिना टैक्स दिये चोरी छिपे सामान लाने व ले जाने के मामले में कमी आ रही है, बल्कि इस अभियान से विभाग को अच्छा खासा राजस्व प्राप्त हो रहा है। चलाये गये अभियान में लखनऊ जोन द्वारा कुल रू0 39.88 लाख जमा कराया जा चुका है, इसी प्रकार कानपुर जोन में जमा करवाने की कार्यवाही प्रक्रिया में है।
अपर आयुक्त ग्रेड-2(वि0अनु0शा0) भूपेन्द्र शुक्ल ने बताया कि इस अभियान के अंतर्गत ज्यादा कर चोरी किए जाने वाली वस्तुओं तथा चिन्हित ट्रांसपोर्टर्स जिनके द्वारा चोरी छिपे करापवंचन के उद्देश्य से बिना कागजों के माल का परिवहन किया जाता है। ऐसे व्यापारियों और ट्रांसपोर्टर्स के विरूद्ध यह अभियान माननीय मुख्यमंत्री के दिए गए 100 दिन की कार्ययोजना तथा राजस्व संग्रह के परिप्रेक्ष्य में आयुक्त राज्य कर के निर्देशन में चलाया गया। श्री शुक्ल ने बताया कि कर चोरी के बारे में लगातार शिकायतें मिल रही थीं। इस अभियान के तहत लखनऊ के दोनों जोनों तथा कानपुर के दोनों जोनों द्वारा सम्मिलित रूप से यह अभियान चलाया गया है। इस प्रकार इस अभियान का क्षेत्र कानपुर, कानपुर देहात, उन्नाव, रायबरेली, हरदोई, लखनऊ, सीतापुर एवं लखीमपुर खीरी जनपद के अधिक्षेत्र में यह कार्यवाही करायी गयी है। जिसमें कुल 141 वाहन रोके गए। रोके गए वाहनो में संवेदनशील वस्तुओं के कुल 62 वाहन रोके गए। चिन्हित ट्रांसपोर्टर्स के कुल 17 वाहन रोके गए। इन वाहनों में रेडीमेड गारमेंट्स, आयरन स्टील स्क्रैप, एल्युमिनियम स्क्रैप, पान-मसाला, सुपाड़ी, तंबाकू आदि के वाहन रोके गए हैं। प्रथम दृष्टया करापवंचन के उद्देश्य से परिवहन किए जा रहे कुल रू0 लगभग 7 करोड़ का माल रोका गया है। जिसमें लखनऊ जोन द्वारा कुल रू0 39.88 लाख जमा कराया जा चुका है, इसी प्रकार कानपुर जोन में जमा करवाने की कार्यवाही प्रक्रिया में है। शेष वाहनों पर कार्यवाही की जा रही है।

 

About AT-News

Check Also

भारत के सूक्ष्म, लघु और मध्यम श्रेणी के उद्योगों को निर्यात के लिए तैयार डीजीएफटी और डीएचएल के बीच एमओयू

केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय का विदेश व्यापार महानिदेशालय (डीजीएफटी) अपनी जिला निर्यात केंद्र नामक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *