Breaking News

2 अक्टूबर को महात्मा गांधी के जन्म दिवस पर सहारा शहर में  अनिल विक्रम सिंह ने पुष्पांजलि व माल्यार्पण करके श्रद्धा सुमन अर्पित की

 

प्रत्येक वर्ष देश में 2 अक्टूबर को महात्मा गांधी के जन्म दिवस को गांधी जयंती के रूप में मनाया जाता है। इस अवसर सहारा शहर में आयोजित कार्यक्रम में सहारा इंडिया परिवार के वरिष्ठ सलाहकार  अनिल विक्रम सिंह जी ने समस्त टीम के साथ सहारा शहर‌के प्रांगण में पुष्पांजलि व माल्यार्पण करके श्रद्धा सुमन अर्पित किया। श्री सिंह ने बताया कि हमारे माननीय अभिभावक सहाराश्री जी हमेशा से बापू के अहिंसा सिद्धांत का समर्थन करते रहे हैं और उनके आदर्शो को व्यवहारिक जीवन में अपनाने की प्रेरणा देते रहे हैं।

गांधी जी भारत के स्वाधीनता आंदोलन की प्रमुख चेहरो में थे। सिर्फ भारत मे ही नहीं बल्कि दुनिया भर में आज महात्मा गांधी की भारत के स्वतंत्रता आंदोलन में गांधी जी की महत्वपूर्ण भूमिका को भुलाया नहीं जा सकता है। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी की जयंती को पूरा देश राष्ट्रीय पर्व के तौर पर मानता है। श्री अनिल विक्रम सिंह जी ने बताया कि गांधी जी जयंती हमें बापू के आदर्शों की याद दिलाती हैं गांधी जी के विचार से केवल भारत ही नहीं बल्कि विदेशों में भी लाखों लोग उनसे प्रभावित है और उनसे प्रेरणा लेते रहे हैं आजीवन अहिंसा और सत्य के मार्ग पर चलने वाले बापू ने संपूर्ण मानव जाति को न सिर्फ मानवता का पाठ पढ़ाया बल्कि जिंदगी जीने का तरीका भी सिखाया है। इसी वजह है कि दुनिया भर में 2 अक्टूबर को गांधी जयंती को अंतरराष्ट्रीय अहिंसा दिवस के रूप में मनाया जाता है।

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का जन्म 2 अक्टूबर 1869 को गुजरात के पोरबंदर में हुआ था और इस राष्ट्रीय पर्व पर सभी उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं सरकार ने 1 अक्टूबर को बड़े स्तर पर स्वच्छता अभियान चलाने के लिए 1 तारीख 1 घंटा एक साथ अभियान छेड़ा और यह प्रेरणा दी कि हमें स्वच्छता को अपनी आदत में शुमार करना चाहिए। स्वच्छ भारत का एक साझा जिम्मेदारी है इस अभियान को केवल एक या दो दिन नहीं बल्कि से जीवन का हिस्सा बनना चाहिए और सभी सार्वजनिक स्थलों को भी स्वच्छ रखने का प्रयास करना चाहिए।

About ATN-Editor

Check Also

जुड़वा बहनों ने आई.एस.सी 2024 परीक्षा परिणाम कक्षा 12 मे राजधानी का नाम रौशन किया 

लखनऊ , 6 अप्रैल 2024। आज आए आई.एस.सी 2024 परीक्षा परिणाम में राजधानी के स्टेला …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *