Breaking News

जी-20 शिखर सम्मेलन में यूपी के मुरादाबाद के शिल्पकार दिलशाद हुसैन को मिली वैश्विक पहचान

आस्ट्रेलिया,बाग्लादेश और नेपाल आदि देशों के अतिथियों ने की तारीफ

पद्मश्री से सम्मानित हो चुके शिल्पगुरु दिलशाद हुसैन को भारत सरकार की ओर से जी 20 की बैठक में शामिल होने का न्योता मिला था। दिलशाद हुसैन ने 7 सितम्बर से 10 सितम्बर तक दिल्ली के प्रगति मैदान में अपना स्टाल लगाकर हस्तशिल्प कलाकृतियों का प्रदर्शन किया।
भारत मंडपम में, शिल्प बाज़ार देश की विविध और उत्कृष्ट शिल्प कौशल के चमकदार प्रदर्शन के साथ जी20 आगंतुकों का स्वागत किया उन्हीं में से एक चमचमाते पीतल के बर्तनों के साथ एक अलग स्टाल दिखता है, जिन पर जटिल डिजाइन उकेरे गए हैं।
यह काम है उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद के पद्मश्री पुरस्कार विजेता दिलशाद हुसैन का, जिन्होंने अपने कौशल से किसी और को नहीं बल्कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को प्रभावित किया है।उतर प्रदेश के मुरादाबाद के रहने वाले दिलशाद के हाथ से बनी कलाकृतियों और मटकों की प्रशंसा आस्ट्रेलिया,बांग्लादेश और नेपाल आदि देश के प्रतिनिधियों ने की।
दिलशाद हुसैन ने विदशी प्रतिनिधियों को बताया कि वे कांस्य पर नक्काशी कर रहे हैं। उन्हें 2023 में पद्मश्री मिला है। उन्होंने बताया कि लखनऊ के इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में एक स्टॉल लगाया था। पीएम मोदी ने हमारे एक स्टॉल का दौरा किया था और उन्होंने हमारी कलाकृति की सराहना की थी। तीन दिनों के बाद , उन्हें फोन आया कि पीएम मोदी को काले बर्तन पर बनी एक कलाकृति पसंद आई है और वह इसे जर्मनी को उपहार में देना चाहते हैं। उन्होंने बताया कि वो इस बात से उत्साहित थे कि हमारी कलाकृति को पहचान मिली है और तब से हमारी बिक्री बढ़ गई है। उन्होंने आगे कहा कि जब उन्हें जी20 शिखर सम्मेलन में अपनी कलाकृति प्रदर्शित करने का निमंत्रण मिला तो उन्हें बहुत खुशी हुई। दिलशाद ने कहा, ष् हमारी कला को विदेशी प्रतिनिधियों ने देखा जिससे हमारी कला को बढ़ावा मिल रहा है ष्
दिलशाद हुसैन मुरादाबाद की पीतल कला के उस्ताद हैं, जिसे ष्पीतल नगरीष् या भारत का पीतल शहर भी कहा जाता है। शिल्प में उनके योगदान के लिए उन्हें देश के चौथे सर्वाेच्च नागरिक सम्मान पद्मश्री से सम्मानित किया गया है। उन्हें छह साल पहले तत्कालीन राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद से शिल्पा गुरु पुरस्कार भी मिल चुका है।हुसैन ने अपने शिल्प के पीछे की तकनीक के बारे में बताते हुए, जो उन्होंने अपने दादा से सीखी थी, कहा कि वह पहले कागज पर डिज़ाइन का रेखाचित्र बनाते हैं, फिर एक बढ़िया उत्कीर्णन उपकरण और एक लकड़ी के ब्लॉक के साथ इसे पीतल के बर्तन पर बनाते हैं। इस प्रकार की नक्काशी को ष्मरोडीष् कहा जाता है।
विरासत को जीवित रखना
हुसैन को अपनी कला पर गर्व है और वह इसे दुनिया भर में प्रचारित करना चाहते हैं। वह अपनी कला में युवाओं को प्रशिक्षित कर रहे हैं, जिनमें से कई महिलाएं हैं और उन्हें उम्मीद है कि वह अपनी विरासत को अगली पीढ़ी तक पहुंचाएंगे।हुसैन का काम भारत की समृद्ध और विविध विरासत का प्रतिबिंब है, जिसे दुनिया भर के लोगों ने सराहा है। वह कई महत्वाकांक्षी कारीगरों के लिए प्रेरणा हैं जो अपने जुनून को आगे बढ़ाना चाहते हैं और दुनिया में अपनी पहचान बनाना चाहते हैं।

 

About ATN-Editor

Check Also

लोकसभा सामान्य निर्वाचन-2024 में 70 प्रतिशत से अधिक मतदान कराये जाने का प्रयास किया जाय-मुख्य निर्वाचन अधिकारी नवदीप रिणवा

नागरिकों को जागरूक करने के लिए स्वीप गतिविधियों को तेजी से संचालित करें सभी विभाग …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *