Breaking News

भारत में फ्रंट-ऑफ-पैकेज लेबलिंग (एफओपीएल) के कार्यान्वयन को आकार

 

 

गोलमेज कार्यशाला ने विशेषज्ञों, उद्योग प्रतिनिधियों, और हितधारकों को एकत्रित किया ताकि भारत में फ्रंट-ऑफ-पैकेज लेबलिंग (एफओपीएल) के कार्यान्वयन को आकार दिया जा सके।

एफओपीएल के कार्यान्वयन से स्वास्थ्य पर महत्वपूर्ण प्रभाव के साथ-साथ खाद्य प्रसंस्करण उद्योग को भी सकारात्मक प्रभाव पड़ने की उम्मीद है, जिससे भारतीय उद्योग विदेशी निवेश आकर्षित कर सकता है और विकास को बढ़ावा मिल सकता है।

नई दिल्ली – पीपुल्स विजिलेंस कमेटी ऑन ह्यूमन राइट्स (पीवीसीएचआर), फूड इंडस्ट्रीज वेलफेयर एसोसिएशन (एफआईडब्ल्यूए) और भारतीय व्यापार मंडल द्वारा भारत में फ्रंट-ऑफ-पैकेज लेबलिंग (एफओपीएल) को अपनाने पर एक गोलमेज कार्यशाला का आयोजन कॉन्स्टिट्यूशन क्लब ऑफ इंडिया में किया गया।
कार्यशाला में गैर-संचारी रोगों (एनसीडी) के बोझ को कम करने और स्वस्थ भोजन विकल्पों को बढ़ावा देने में एफओपीएल विनियमन में स्टार रेटिंग फूड लेबल के महत्व पर विचार किया गया।
भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण द्वारा प्रस्तावित एफओपीएल पर मसौदा अधिसूचना, जो ष्भारतीय पोषण रेटिंगष् (आईएनआर) पेश करती है, ने विभिन्न हितधारकों का महत्वपूर्ण ध्यान आकर्षित किया है। भारत में मधुमेह, कैंसर और हृदयघात जैसे रोग वार्षिक मौत के प्रमुख कारण होने के चलते, गैर-संचारजनक रोगों को रोकने के लिए अस्वस्थ खाद्य उत्पादों के सेवन को कम करना अत्यंत महत्वपूर्ण है।
सभा की अध्यक्षता करते हुए मानवधिकार जननिगरानी समिति के संस्थापक व संयोजक श्री लेनिन रघुवंशी ने बताया कि भारत में लगभग 45 मिलियन ऐसे बच्चे हैं जो अविकसित हैं और 15 मिलियन ऐसे बच्चे हैं जो मोटापे के शिकार हैं। चौंकाने वाली बात यह है कि भारत में 5 साल से कम उम्र के बच्चों की मृत्यु दर में से लगभग आधे के लिए कुपोषण जिम्मेदार है। इसके अलावा वयस्कों में भी मोटापे मधुमेह और हृदय से जुड़े बीमारियों को देखा जा सकता है । श्री रघुवंशी ने इस बात पर जोर दिया कि गैर-संचारी रोग वैश्विक मृत्यु दर का प्रमुख कारण हैं, और अस्वास्थ्यकर आहार विकल्प, जो अक्सर अनियंत्रित अति प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों और पेय पदार्थों के साथ-साथ तेजी से विकसित शहरी जीवन शैली के कारण होते हैं। उन्होंने आगे भारतीय चौंबर ऑफ कॉमर्स से विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) और अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान की सिफारिशों के अनुसार, चेतावनी लेबल के साथ मजबूत एफओपीएल नियमों को लागू करने के लिए स्वास्थ्य मंत्री और एफएसएसएआई के सीईओ के साथ सहयोग करने का आग्रह किया।
एफआईडब्ल्यूए के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. गिरीश गुप्ता ने भारत की अर्थव्यवस्था में खाद्य प्रसंस्करण उद्योग की महत्वपूर्ण भूमिका को मानते हुए कहा कि, इस उद्योग के माध्यम से रोजगार के अवसर पैदा करने, विदेशी भंडार को एकत्र करने और किसानों की आय को बढ़ाने के लिए एफओपीएल के इस कार्यान्वयन से इस उद्योग जगत को बहुत लाभ होने की उम्मीद है।जिससे यह विदेशी निवेश को आकर्षित करने और पर्याप्त विकास को बढ़ावा देने का अवसर प्रदान करेगा।
बीवीएम के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. अंकुर सिंघल ने इस बात पर जोर दिया कि एफओपीएल के कार्यान्वयन से न केवल स्वास्थ्य पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ेगा, बल्कि खाद्य प्रसंस्करण उद्योग पर भी सकारात्मक प्रभाव देखने को मिलेगा। जैसे-जैसे बाज़ार स्वस्थ भोजन विकल्पों की ओर बढ़ रहा है, भारतीय खाद्य प्रसंस्करण उद्योग विदेशी निवेश को आकर्षित करने में एक अनूठा अवसर प्राप्त कर सकता है।
पकौरी लाल कोल, संसद सदस्य – रॉबर्ट्सगंज ने कहा की, हमारा मानना है कि भारत में गैर-संचारी रोगों और कुपोषण के बढ़ते बोझ को दूर करने के लिए फ्रंट-ऑफ-पैकेज लेबलिंग को व्यापक रूप से अपनाना आवश्यक है। कार्यशाला एफओपीएल को लागू करने और उपभोक्ताओं के बीच स्वस्थ भोजन विकल्पों को बढ़ावा देने के लिए सबसे प्रभावी रणनीतियों पर चर्चा करने के लिए एक मंच के रूप में काम करेगी।
गोलमेज कार्यशाला ने रचनात्मक चर्चा में शामिल होने और भारत में एफओपीएल के भविष्य के कार्यान्वयन को आकार देने के लिए विशेषज्ञों, उद्योग प्रतिनिधियों और हितधारकों को एक साथ लाया।
वर्कशॉप में विभिन्न संगठनों के प्रतिनिधियों ने भाग लिया। इसमें अभिषेक प्रताप (जीएचएआई में सलाहकार), डॉ. अरुण गुप्ता (एनएपीआई के कनवेनर) शैलेंद्र दुबे (अखिल भारतीय ग्राहक पंचायत), अजय जन्मजय (भारतीय व्यापार मंडल के राष्ट्रीय प्रवक्ता), और सरकारी प्राधिकरणों में अशोक ठाकुर (एनएफईडी से), बी.एस आचार्या (पूर्व सहायक निदेशक, खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण ऑफ इंडिया), डॉ. आर.के. भारती (एमएसएमई के संयुक्त निदेशक), और सुनील कुमार (एमएसएमई में सहायक निदेशक) शामिल थे। उन्होंने एनसीडी और बच्चों में मोटापे को रोकने के लिए सहयोग के महत्व पर बात की। इसके अलावा लालजी देसाई (ऑल इंडिया कॉंग्रेस सेवा दल के मुख्य आयोजक) और एडवोकेट सुशील राजा (सरकार के विधि और न्याय मंत्रालय के वरिष्ठ पैनल काउंसलर, और अटल फाउंडेशन के संस्थापक और अध्यक्ष) ने बच्चों के पोषण के अधिकार को फ्रंट-ऑफ-पैकेट लेबलिंग (एफओपीएल) के माध्यम से सुरक्षित करने पर अपने दृष्टिकोण
साझा किए।
वर्कशॉप को पीवीसीएचआर के कार्यक्रम निदेशक शिरीन शबाना खान ने संचालित किया।

 

About ATN-Editor

Check Also

लेफ्ट मेन कोरोनरी आर्टरी ९० प्रतिशत और अन्य तीनों आर्टरी ब्लॉक की सहारा हॉस्पिटल ने बचाई जान

६८ वर्षीय पुरुष मरीज पहले से हाई ब्लड प्रेशर और शुगर से ग्रसित थे और …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *