Breaking News

ऋण आवेदन पत्र/मंजूरी पत्र में विभिन्न श्रेणियों के उधारकर्ताओं से अलग-अलग ब्याज दरें वसूल रहा है-एल एण्ड टी फाइनेंस

एल एण्ड टी फाइनेंस पर आर बी आई ने लगाया जुर्माना
टीटू ठाकुर

 

एल एण्ड टी फायनेंस लिमिटेड अपने ग्राहकों से दंडात्मक ब्याज दर वसूल की जो मंजूरी के समय सूचित की गई राशि से अधिक है। ऋण आवेदन पत्र/मंजूरी पत्र में विभिन्न श्रेणियों के उधारकर्ताओं से अलग-अलग ब्याज दरें वसूलने के जोखिम के वर्गीकरण और तर्क का खुलासा नहीं किया। यंे जानकारियां भारतीय रिजर्व बैंक के मुख्य महाप्रबंधक योगेश दयाल ने जारी एक बयान में दी।

उन्होंने कहा कि भारतीय रिज़र्व बैंक ने एक आदेश द्वारा, कुछ प्रावधानों का अनुपालन न करने के लिए एल एण्ड टी फाइनेंस लिमिटेड (कंपनी) पर ₹2.50 करोड़ (केवल दो करोड़ पचास लाख रुपये) का मौद्रिक जुर्माना लगाया है।
ये जुर्माना गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी – प्रणालीगत रूप से महत्वपूर्ण गैर-जमा लेने वाली कंपनी और जमा लेने वाली कंपनी (रिज़र्व बैंक) निर्देश को पूरा करने पर लगाया गया है।

योगेश दयाल ने कहा कि यह कार्रवाई विनियामक अनुपालन में कमियों पर आधारित है और इसका उद्देश्य कंपनी द्वारा अपने ग्राहकों के साथ किए गए किसी भी लेनदेन या समझौते की वैधता को प्रभावित करना नहीं है।

महा प्रबंधक ने बताया कि कंपनी का वैधानिक निरीक्षण आरबीआई ने 31 मार्च, 2021 और 31 मार्च, 2022 को इसकी वित्तीय स्थिति के संदर्भ में किया गया था और जोखिम मूल्यांकन रिपोर्ट, निरीक्षण रिपोर्ट, पर्यवेक्षी पत्र और उसी से संबंधित सभी संबंधित पत्राचार की जांच की गई थी। अन्य बातों के साथ-साथ, कंपनी ने अपने खुदरा उधारकर्ताओं को ऋण आवेदन पत्र/मंजूरी पत्र में विभिन्न श्रेणियों के उधारकर्ताओं से अलग-अलग ब्याज दरें वसूलने के जोखिम के वर्गीकरण और तर्क का खुलासा नहीं किया।

दूसरा परिवर्तन को सूचित करने में विफल रही अपने उधारकर्ताओं से दंडात्मक ब्याज दर वसूल की जो मंजूरी के समय सूचित की गई राशि से अधिक थी
तीसरा जब उसने वार्षिक दर से शुल्क लिया, तो अपने उधारकर्ताओं को ऋण के नियमों और शर्तों में बदलाव की सूचना देने में विफल रहा ब्याज की, मंजूरी के समय बताई गई जानकारी से अधिक है।
महा प्रबंधक ने बताया कि नतीजतन कंपनी को एक नोटिस जारी किया गया जिसमें उसे कारण बताने की सलाह दी गई कि आरबीआई के निर्देशों का पालन करने में विफलता के लिए उस पर जुर्माना क्यों नहीं लगाया जाना चाहिए, जैसा कि उसमें कहा गया है।

नोटिस पर कंपनी के जवाब, उसके द्वारा किए गए अतिरिक्त प्रस्तुतीकरण और व्यक्तिगत सुनवाई के दौरान किए गए मौखिक प्रस्तुतीकरण पर विचार करने के बाद, आरबीआई इस निष्कर्ष पर पहुंचा कि उपरोक्त आरबीआई निर्देशों का अनुपालन न करने का आरोप प्रमाणित हुआ और मौद्रिक जुर्माना लगाना आवश्यक हो गया।

 

 

About ATN-Editor

Check Also

सी.आई.आई. यू.पी. एम.एस.एम.ई सम्मेलन

भातीय उद्योग परिसंघ उत्तर प्रदेश ने  लखनऊ में सी.आई.आई. यू.पी. एम.एस.एम.ई सम्मेलन का आयोजन किया*, …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *