Breaking News

‘मोदी सरकार की गारंटी’ ने 9 वर्षों में खादी उत्पादों को ‘लोकल से ग्लोबल’ किया-केवीआईसी अध्यक्ष मनोज कुमार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विजन के अनुसार ग्रामीण कारीगरों को सशक्त बनाने के लिए 100 विद्युत चालित चाक, 500 मधुमक्खी बॉक्स, 20 प्लंबर टूलकिट समेत 680 मशीनरी और टूलकिट का वितरण

पूजा श्रीवास्तव

‘मोदी सरकार की गारंटी’ से पिछले 9 वर्षों में खादी और ग्रामोद्योगी उत्पादों की पहुंच लोकल से ग्लोबल हुई है। यें बातें ग्रामोद्योग विकास योजना के अंतर्गत ग्रामीण कारीगरों को मशीनरी और टूलकिट प्रदान करते हुए केवीआईसी अध्यक्ष मनोज कुमार ने कहा शामली जिले के पंजोखरा स्थित चौधरी चरण सिंह बहुउद्देशीय प्रशिक्षण केंद्र में कही।

उन्होंने कहा कि वोकल फॉर लोकल और मेक इन इंडिया मंत्र ने खादी को वैश्विक मंच पर पहचान दिलाई है। पिछले 9 वर्षों में खादी और ग्रामोद्योगी उत्पादों का कारोबार 1.34 लाख करोड़ रुपये के आंकड़े को पार कर गया है, जबकि इस दौरान 9.50 लाख से अधिक नये रोजगार का सृजन हुआ है।

मनोज कुमार ने कहा कि माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में चल रहे ‘आत्मनिर्भर भारत, विकसित भारत और ‘एक भारत श्रेष्ठ भारत अभियान’ से ग्रामीण भारत के कुशल कारीगरों को जोड़ने के लिए केवीआईसी द्वारा वृहद पैमाने पर कारीगरों को आधुनिक ट्रेनिंग के बाद मशीनरी और टूलकिट प्रदान कर रहा है। ग्रामोद्योग विकास योजना के अंतर्गत केवीआईसी ने अभी तक 27 हजार से अधिक कुम्हार भाइयों और बहनों को विद्युत चालित चॉक का वितरण किया है, जिससे 1 लाख से अधिक कुम्हारों के जीवन में बड़ा बदलाव आया है। इसी योजना के तहत 6000 से अधिक टूलकिट और मशीनरी का वितरण किया गया है, जबकि हनी मिशन योजना के अंतर्गत अभी तक 20,000 लाभार्थियों को 2 लाख से अधिक हनी बी-बॉक्स और बी कॉलोनी का वितरण किया गया है।

वितरण कार्यक्रम में केवीआईसी के मंडलीय कार्यालय मेरठ के अंतर्गत आनेवाले 6 मंडलों के 25 जिलों के ग्रामीण कारीगरों को 680 मशीनरी और टूलकिट व 90 प्रशिक्षुओं को प्रशिक्षण के उपरांत प्रमाण पत्र प्रदान किये गये।

केवीआईसी अध्यक्ष ने कहा पिछले 9 वर्षों में ‘नये भारत की नयी खादी’ ने ‘आत्मनिर्भर भारत अभियान’ को नयी दिशा दी है। जिसके परिणाम स्वरूप इस कालखंड में खादी उत्पादों की बिक्री में चार गुना से अधिक की बिक्री दर्ज की गई है। खादी की उत्पादन और बिक्री बढ़ने से ग्रामीण भारत के कारीगर आर्थिक रूप से समृद्ध हुए हैं। उन्होंने आगे कहा कि मंडलीय कार्यालय मेरठ में खादी की 396 संस्थाओं के माध्यम से 81788 खादी कारीगरों को रोजगार मिल रहा है। खादी कारीगरों में 80 प्रतिशत महिलाओं की भागीदारी है।
उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम (पीएमईजीपी) के माध्यम से पिछले तीन वर्षों में यहां पर 2702 नयी यूनिटें लगी हैं जिन्हें 99.80 करोड़ रुपये की मार्जिन मनी सब्सिडी भारत सरकार की तरफ से दी गई है। इसके माध्यम से मंडलीय कार्यालय मेरठ के अंतर्गत आनेवाले 25 जिलों में 21616 नये रोजगार का सृजन हुआ है। उन्होंने आगे कहा कि पंजोखरा स्थित चौधरी चरण सिंह बहुउद्देशीय प्रशिक्षण केंद्र में पिछले तीन वर्षों में 9623 प्रशिक्षुओं को रोजगार से जुड़ी ट्रेनिंग दी गई है।
इस अवसर पर कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कैराना लोकसभा सीट से सांसद प्रदीप चौधरी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में खादी और ग्रामोद्योग आयोग ग्रामीण क्षेत्र को सशक्त, सक्षम और आत्मनिर्भर बनाने के लिए बेहतरीन कार्य कर रहा है। केवीआईसी से जुड़कर युवा नये-नये उद्योग लगा कर आत्मनिर्भर बन रहे हैं। उन्होंने अपनी लोकसभा क्षेत्र के युवाओं से अपील की वो भी खादी और ग्रामोद्योग आयोग से जुड़कर आत्मनिर्भर बने और विकसित भारत के निर्माण में सहयोग दें।
उत्तर प्रदेश विधान परिषद के सदस्य विरेंद्र सिंह और खादी संस्थाओं के प्रतिनिधि, खादी कार्यकर्ता और कारीगर, ग्रामोद्योग विकास योजना के लाभार्थियों समेत बैंकों के प्रतिनिधि, केवीआईसी और उत्तर प्रदेश सरकार के अधिकारी और कर्मचारीगण मौजूद रहेें।

 

 

About ATN-Editor

Check Also

वरिष्ठ नागरिकों की आवासीय आवश्यकताओं पर मंथन

▪️समाज कल्याण विभाग द्वारा वरिष्ठ नागरिकों के कल्याण और नीतिगत चर्चा के लिए हुआ विशेष …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *