Breaking News

प्रधानमंत्री के नेतृत्व में जापान और जर्मनी को पीछे करके भारत शीघ्र तीसरी बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा– अर्जुन राम मेघवाल

लखनऊ में आयकर अपीलीय अधिकरण (आईटीएटी) के कार्यालय-सह-आवासीय परिसर का हुआ उद्घाटन, टैक्स से संबंधित विवादों का होगा निपटारा

केंद्रीय राज्य मंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने वर्चुअली किया उदघाटन

प्रधानमंत्री के नेतृत्व में जापान और जर्मनी को पीछे करके भारत शीघ्र तीसरी बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा। कोविड के दौरान आईटीएटी ने ई-हिअरिंग, फेसलेसअसेसमेंट से लोगों के जीवन को आसान बनाया। है यें बातें आयकर अपीलीय अधिकरण भवन लखनऊ का वर्चुअली उदघाटन करते हुए केंद्रीय विधि और न्याय (स्वतंत्र प्रभार), संसदीय कार्य एवं संस्कृति राज्य मंत्री,भारत सरकार अर्जुन राम मेघवाल ने कही।

श्री मेघवाल ने कहा कि आयकर अपीलीय अधिकरण आईटीएटी सभी ट्रिब्यूनल की मदर ट्रिब्यूनल है। जिस तरह से अधिकरण लोगों के विवादों का निस्तारण करता है यह इज ऑफ लिविंग का सबसे बड़ा उदाहरण है। देश में ईजी ऑफ र्डूइंग में अमूलचूल बदलावा आ रहा है

उन्होंने कहा कि जिस तरह से विवाद से विश्वास स्कीम 2020 के अंतर्गत करदाताओं के विवादित करों की राशि का भुगतान से संबंधित मामलों का आईटीएटी ने अच्छे से निपटारा किया।

आयकर अपीलीय अधिकरण के अध्यक्ष जस्टिस सी. वी. भडंग ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि जयपुर, बैंगलोर और कटक के बाद आयकर अपीलीय अधिकरण को चौथा भवन लखनऊ में मिला है। उन्होंने कहा कि आईटीएटी में लंबित मामलों की संख्या कम और निस्तारित किए गए केसों की संख्या बढ़ती जा रही है।

आयकर अपीलीय अधिकरण, (दिल्ली और अहमदाबाद क्षेत्र), उपाध्यक्ष, जी. एस. पन्नू और आयकर अपीलीय अधिकरण, (लखनऊ और पुणे क्षेत्र) उपाध्यक्ष, शक्तिजीत डे, मुख्य आयकर आयुक्त संदीप कुमार भी समारोह में मौजूद रहे ।


यह इमारत आधारमूलभूत संगरचना का काम करने वाली है जिससे देश की अर्थव्यवस्था को गति मिलेगीं- जस्टिस सी. वी. भडंग

प्रेसवार्ता के दौरान आयकर अपीलीय अधिकरण के अध्यक्ष जस्टिस सी. वी. भडंग ने एक सवाल के जवाब में कहा कि आसान और करने योग्य के मामले में यह इमारत आधारमूलभूत संगरचना का काम करने वाली है जिससे देश की अर्थव्यवस्था को गति मिलेगीं।

इस मौके पर आयकर अपीलीय अधिकरण, (लखनऊ और पुणे क्षेत्र) उपाध्यक्ष, शक्तिजीत डे ने बताया कि इस परिक्षेत्र में दो हजार के आसपास मुकददमें है क्योंकि हमारे यहां काम की गति इतनी है कि देश में किसी भी अधिकरण में नही है यह वजह है इस साल के मुकददमों को भी तारिख मिल रही है ।

आयकर अपीलीय अधिकरण, (दिल्ली और अहमदाबाद क्षेत्र), उपाध्यक्ष, जी. एस. पन्नू ने बताया कि देश में आयकर से जुड़े मामलों में हम ज्यादा गम्भीर है किसी भी केस को रोकते नही है बल्कि उसको जल्द से जल्द निपटाने की कोशिशें होती है ।ं एक सवाल की सभी अधिकरण में कितने मामले लटके है और उनमें कितना धन फंसा हुआ है।इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि हम मामलें सुलझाते है हिसाब-किताब नही रखते है।

About ATN-Editor

Check Also

अभद्र और अश्लील कन्टेन्ट वाले 18 ओटीटी प्लेटफाम ब्लॉक

ओटीटी प्लेटफार्मों की 19 वेबसाइटों, 10 ऐप्स, 57 सोशल मीडिया हैंडल की सामग्री पर राष्ट्रव्यापी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *