Breaking News

शुद्ध एनपीए रेशियो वित्तीय वर्ष 23 की तीसरी तिमाही के 0.99 फीसदी की तुलना में गिरकर वित्त वर्ष 24 की तीसरी तिमाही में 0.70 फीसदी रह गया- देबदत्त चांद

बैंक आफ बड़ौदा का शुद्ध लाभ तीसरी तिमाही में 18.8 फीसदी बढ़ा, वैश्विक व्यवसाय में भी वृद्धि

बैंकों में लगातार जमा कम होने से उनकी पूंजी पर असर पड़ने लगा है जिसको बैंक बॉन्डों के माध्यम से पूरा करने की पूर जोर कोशिश कर रहे हैं वही लोग पर्सनल लोन के सबसे ज्यादा लोन ले रहे हैं जो की एक संकेत है हमारी अर्थव्यवस्था का

उमैर जफर

 

बैंक आफ बड़ौदा का सकल एनपीए अनुपात वित्त वर्ष 24 की तीसरी तिमाही में 3.08 फीसदी रहा जोकि पिछले साल इसी अवधि में 4.53 फीसदी था। वहीं शुद्ध एनपीए रेशियो भी वित्तीय वर्ष 23 की तीसरी तिमाही के 0.99 फीसदी की तुलना में गिरकर वित्त वर्ष 24 की तीसरी तिमाही में 0.70 फीसदी रह गया है। यें बातें बैंक आफ बड़ौदा ने वित्तीय वर्ष 2024 की तीसरी तिमाही के वित्तीय परिणामों की आभासी प्रेसवर्ता के दौरान बैंक के प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी देबदत्त चांद ने बतायी।

उन्होंने बताया कि 31 दिसंबर 2023 को समाप्त तिमाही में बैक का शुद्ध मुनाफा 18.8 फीसदी बढ़कर 4579 करोड़ रुपये हो गया है जोकि बीते साल इसी अवधि में 3853 करोड़ रुपये था। वित्त वर्ष 24 के पहले 9 महीनों में बैंक आफ बड़ौदा का शुद्ध लाभ 38.2 फीसदी बढ़कर 12902 करोड़ रुपये हो गया है।

देबदत्त चांद ने बताया कि तीसरी तिमाही में वैश्विक व्यवसाय 10.7 फीसदी बढ़कर 2294627 करोड़ रुपये हो गया है सालाना आधार पर ईक्विटी पर रिटर्न वित्त वर्ष 24 के 9 महीनों में 18.70 फीसदी अधिक रहा है।

.एक सवाल के जवाब में उन्होंने बताया कि ऑपरेटिंग एक्सपेंस इसलिए बढ़ गया है क्योंकि पिछले 2 साल का वेजेस सेटलमेंट किया है अमूमन 8 से 9 प्रतिशत होता है जो कि इस वक्त 13 फीसदी से ज्यादा है।

.एक सवाल के जवाब में देबदत्त चांद ने बताया कि इस वक्त सबसे ज्यादा पर्सनल लोन में बढ़ोतरी है जो की 60 फ़ीसदी से ज्यादा है और मौजूदा वक्त में पर्सनल पर्सनल लोन बुक 25000 करोड़ से ज्यादा की हो गई है

इस वित्तीय वर्ष में 12000 करोड रुपए वसूली का लक्ष्य तय किया था जिसके सापेक्ष में 9000 करोड रुपए की वसूली हो चुकी है

.एक सवाल के जवाब में देबदत्त चांद ने बताया कि मौजूदा दौर में बैंक डिपॉजिट के मुकाबले में एस आई पी और कैपिटल मार्केट में अच्छे रिटर्न की वजह से बैंक में डिपॉजिट कम हो रहा है। हम लोग लगातार ब्याज दरों के साथ-साथ नए और आकर्षक खातों को लांच कर रहे हैं ताकि लोग ज्यादा से ज्यादा हमारी बैंकिंग से सुरक्षित मुनाफा कमाए

एमडी एवं सीईओ ने बाताया कि वर्ष दर वर्ष आधार पर वित्त वर्ष 24 की तीसरी तिमाही में बैंक के वैश्विक अग्रिमों में 13.6 फीसदी की बढ़त दर्ज की गयी है। बैंक का आटो लोन 24.3 फीसदी, होम लोन 15.6 फीसदी, पर्सनल लोन 60.8 फीसदी व शैक्षिक लोन 18.3 फीसदी बढ़ा है। कृषि ऋण वर्ष दर वर्ष आधार पर 12.6 फीसदी बढ़कर 134240 करोड़ रुपये रहा है।
बैंक आफ बड़ौदा की परिचालन आय वित्त वर्ष 24 की तीसरी तिमाही में 13912 करोड़ रुपये रही है। वहीं वित्त वर्ष 24 की तीसरी तिमाही में परिचालन लाभ 7015 करोड़ रुपये रहा है और दिसंबर 2023 में पूंजी पर्याप्तता दर 14.72 फीसदी रही है।

पब्लिक सेक्टर बैंक्स में लगातार पर्सनल लोन बुक बहुत तेजी के साथ वृद्धि दर्ज कर रही है जबकि वहीं बैंकों में लगातार डिपॉजिट कब हो रहा है इसका असर बैंक की पूंजी पर पर साफ तौर से दिखाई देने लगा है बैंक इस कमी को इंफ्रा बॉन्ड या दूसरे बॉन्डों के माध्यम से लगातार टियर 2 जैसे शहरों से इस पर जमा बढ़ाने का काम कर रहे हैं

About ATN-Editor

Check Also

सी.आई.आई. यू.पी. एम.एस.एम.ई सम्मेलन

भातीय उद्योग परिसंघ उत्तर प्रदेश ने  लखनऊ में सी.आई.आई. यू.पी. एम.एस.एम.ई सम्मेलन का आयोजन किया*, …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *